HomeNormal G.Kउत्तराखंड के बाज़ारो पर छाई कंडाली / बिच्छू घास, 120 रुपए प्रति...

उत्तराखंड के बाज़ारो पर छाई कंडाली / बिच्छू घास, 120 रुपए प्रति किलो है दाम

उत्तराखंड(Uttarakhand) के पर्वतीय जिलों में घास के तौर पर पाई जाने वाली, स्वाद और दवा के तौर पर इस्तेमाल होने वाली कंडाली इन दिनों रोजगार का जरिया बन चूका है। पहाड़ी जिलों में इसका साग बड़े चाव से खाया जाता है। इसमें कई औषधीय गुण प्राप्त होते हैं। कोटद्वार(Kotdwar) के बाजार में कंडाली की जबर्दस्त बिक्री हो रही है। कभी सिर्फ घास समझी जाने वाली कंडाली यहां 120 रुपये प्रति किलो के भाव बिक रही है। दाम ज्यादा होने के बावजूद लोग इसकी खरीदारी कर रहे हैं । इसके पीछे एक बड़ी वजह यह हैं कि कंडाली यानी बिच्छू घास(Scorpion grass) में रोग प्रतिरोधक गुण पाए जाते हैं।

कंडाली खरीदने वाले लोगों ने कहा कि कंडाली में कई औषधीय(Medicinal) गुण हैं, लेकिन परेशानी ये है कि कोटद्वार क्षेत्र में अब कंडाली ढूंढकर भी नहीं मिलती। अगर ये मिल भी जाए तो इसे काटकर घर तक लाना एक बड़ी समस्या है। ऐसे में इसका बाजारों में बिक्री के लिए आना स्वागत योग्य पहल है। इस तरह कंडाली पहाड़ में रोजगार का बढ़िया जरिया बन सकती है। आपको बता दें कि कंडाली पोषक तत्वों(Nutrients) से भरपूर घास है। इसमें काफी आयरन(Iron) होता है। साथ ही विटामिन ए, सी, पोटैशियम(Potassium), मैग्निज(Magnesium) और कैल्शियम(Calcium) जैसे पोषक तत्व भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। पहाड़ में अब इसकी पत्तियों से चाय तैयार की जा रही है। वहीं इसके रेशों का इस्तेमाल चप्पल, जैकेट और कंबल बनाने में किया जाता हैं ।

पिछले दिनों एक वैज्ञानिक शोध भी प्रकाशित हुआ था, जिसमें कंडाली में कोरोना से लड़ने वाले 23 यौगिक होने की बात कही गई थी। इस तरह कंडाली कोरोना से लड़ने में भी मददगार साबित हो सकती है। पहाड़ के लोग इसकी मेडिशनल वेल्यू(Medial value) जानते हैं, यही वजह है कि कंडाली पहाड़ियों के खान-पान का अहम हिस्सा रही है। अब तो बाजारों में इसकी बिक्री भी होने लगी है। पिछले दिनों जब कंडाली कोटद्वार के बाजार में बिक्री के लिए पहुंची तो लोगों ने इसे हाथों-हाथ खरीद लिया। दुगड्डा के अंतर्गत आने वाले जमरगड्डी क्षेत्र के रहने वाले एक काश्तकार जब कंडाली लेकर कोटद्वार के बाजार पहुंचे तो एक घंटे के भीतर उनकी सारी कंडाली बिक गई। 120 रुपये प्रति किलो दाम होने के बावजूद लोगों ने खूब कंडाली खरीदी।

Must Read

Related News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here