Home Mysterious Batein मौत की खदान, जहाँ 50000 लोगो ने अपना जीवन खो दिया /...

मौत की खदान, जहाँ 50000 लोगो ने अपना जीवन खो दिया / Death mine where 50000 people lost their lives

0
80

उत्तराखंड, उत्तर भारत में स्थित एक बहुत ही खूबसूरत और शांत पर्यटन केंद्र है ।
इस जगह का शुमार देश की उन चुनिन्दा जगहों में है जोअपनी सुन्दरता के चलते दुनिया भर के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है।
‘देवताओं की भूमि’ के रूप में जाना जाने वाला उत्तराखंड अपने शांत वातावरण, मनमोहक दृश्यों और खूबसूरती के कारण पृथ्वी का स्वर्ग माना जाता है।
केदारनाथ, ऋषिकेश, हरिद्वार, देहरादून, उत्तरकाशी, मसूरी आदि इस राज्य को सबसे खास बनाने का काम करते हैं।
लेकिन इन सब के बीच उत्तराखंड के इतिहास से जुड़े कुछ काले पन्ने ऐसे भी हैं जो कुछ अलग अतीत को पेश करते हैं।

आज हम बात करने जा रहे हैं मसूरी स्थित उस मौत की खदान के बारे में, जहां आज भी मृत मजदूरों की चीखें सुनाई देती हैं। यह खदान अब एक प्रेतवाधित जगह में तब्दील हो चुकी है।
मौत की खदान का राज पहाड़ी खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध मसूरी आने वाले सैलानी शायद इस बात से वाकिफ नहीं हैं कि यहां कोई ऐसी भी जगह मौजूद है जहां प्रेतात्माएं वास करती हैं।
आज हम बात करने वाले है मसूरी के पास स्थित ‘लांबी देहर खदान’ के बारे में।
पहले कभी यहां हजारों मजदूर काम किया करते थे। पर आज यह जगह जंगल और खंडहर में बदल चुकी है।

90 के दशक में यह खदान एक बड़े हादसे का शिकार हुई थी।
जिसके कारण यहां काम करने वाले 50,000 मजदूर मौत का शिकार हो गए थे।
दरअसल चुना पत्थर की वजह से यहां के मजदूर पहले फेफडों की बीमारी के शिकार हुए।
फिर उन्हें खून की उलटियां होनी शुरू हुई। चंडीगढ़ के पैरानॉर्मल साइट्स, जहां इंसानों का जाना मना हैl
जिसके बाद 50,000 मजदूर तड़प तड़पकर मरने लगे। कहा जाता है उनके फेफड़े इन्फेक्शन की वजह से पत्थर जैसे हो गए थे।

यह भारत के सबसे बड़े हादसों में गिना जाता है। जिसके बाद से अब यह जगह वीरान पड़ी है। जहां फिर कभी खदान का काम शुरू नहीं हुआ।
इस रहस्यमयी गांव की हकीकत यह है कि शाम के वक्त कोई भूल से भी नहीं भटकता है।
स्थानीय लोगों के अनुसार यहां रात में कोई चुड़ैल खदान के आसपास भटकती है।
इसलिए यहां से गुजरने वाले वाहन अकसर बड़े हादसों का शिकार हो जाते हैं।

इंडियन पैरानॉर्मल सोसाइटी बता दें कि इस जगह पर ‘इंडियन पैरानॉर्मल सोसाइटी’ की टीम भारतीय मीडिया के साथ आ चुकी है।
उनका भी मानना है कि यहां नेगेटिन एनर्जी मौजूद है।
अपने पैरानॉर्मल यंत्रों की मदद से टीम ने कई घंटों तक यहां पड़ताल की है।
जहां उन्हे साफ-साफ आत्माओं के होने के संकेत मिले हैं।
उन्हें यहां अजीबोगरीब धुंध आकृति भी नजर आई थी इसके अलावा उन्होंने अनजान शक्तियों के होने का भी एहसास किया है।
ये कुछ बातें है जो कि इस जगह के बारे में कहा जाता है।

‘लांबी देहर खदान’ मसूरी के पास स्थित है, जो माल रोड़ से लगभग 10 किमी की दूरी पर स्थित है। आप निजी वाहन या प्राइवेट टैक्सी से यहां पहुंच सकते हैं। मसूरी का नजदीकी रेलवे स्टेशन देहरादून है। हवाई मार्ग के लिए आप देहरादून स्थित जॉली ग्रांट हवाई अड्डे का सहारा ले सकते हैं।

Death mine where 50000 people lost their lives

Uttarakhand is a very beautiful and serene tourist center located in North India.
This place is one of the few places in the country that attracts tourists from all over the world due to its beauty.
Uttarakhand, known as the ‘Land of Gods’, is considered to be the paradise on earth due to its serene environment, enchanting scenery and beauty.
Kedarnath, Rishikesh, Haridwar, Dehradun, Uttarkashi, Mussoorie etc. work to make this state most special.
But in the midst of all this, there are some black pages related to the history of Uttarakhand which present a different past.

Today we are going to talk about that death mine in Mussoorie, where even today the screams of the dead laborers are heard. The mine has now been turned into a haunted place.
Secrets of Death Mine Famous for hill beauty, the tourists coming to Mussoorie are probably not aware that there is any place where the spirits reside here.
Today we are going to talk about ‘Lambi Dehar mine’ located near Mussoorie.
Earlier thousands of laborers used to work here. But today this place has turned into a forest and ruins.

This mine was the victim of a major accident in the 90s.
Due to which 50,000 laborers working here died.
In fact, because of the chosen stone, the workers of this place were the first victims of lung disease.
Then they started having blood reversals. Paranormal sites of Chandigarh where humans are not allowed to go.
After which 50,000 laborers started dying year after year. It is said that his lungs had turned into stone due to infection.

It is counted among the biggest accidents in India. After which now this place is deserted. Where the mine work never started again.
The reality of this mysterious village is that in the evening, no one wanders by mistake.
According to the locals, a witch wanders around the mine here at night.
Therefore, vehicles passing through here often fall prey to major accidents.

Indian Paranormal Society should tell that at this place the team of Indian Paranormal Society has come with Indian media.
They also believe that Negatin Energy is present here.
With the help of its paranormal instruments, the team has investigated here for several hours.
Where they have clearly indicated the existence of spirits.
He also saw a peculiar haze figure here, in addition to this he has also realized of having unknown powers.
These are some of the things that are said about this place.

The Lambi Dehar mine is located near Mussoorie, about 10 km from Mall Road. You can reach here by private vehicle or private taxi. The nearest railway station of Mussoorie is Dehradun. For the air route you can resort to Jolly Grant Airport located in Dehradun.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here